Monday, June 18, 2018

कायरों ने एक औरंगजेब मारा, हजारों मर मिटने को तैयार



आज मंथन से पहले आप पाठकों को इंडियन मिलिट्री एकेडमी (आईएमए) के एंथम की चंद पंक्तियां पढ़वा रहा हूं। गौर से पढ़िए। जावेद अख्तर के लिखे इस एंथम को आप यू-ट्यूब पर बेहतर तरीके से सुन सकते हैं, ताकि इसके बोल को आप हमेशा के लिए गुनगुनाने को आत्मसात कर सकें।

भारत माता तेरी कसम, तेरे रक्षक रहेंगे हम
वंदे मातरम..वंदे मातरम..वंदे मातरम
मां हमने तनमन जीवन तुझसे ही पाए हैं
तेरी धरती से जन्मे हैं तेरे ही फल खाए हैं
हम पर तेरी ममता, तेरी करुणा के साये हैं
तेरी बाहों में हैं पले, मां हम तेरे हैं लाडले
दीवारें हम बनेंगे मां, तलवारें हम बनेंगे मां
छू ले तुझको है किसमें दम
भारत माता तेरी कसम
वंदे मातरम..वंदे मातरम..

न पंक्तियों को पढ़कर आपको अहसास हो गया होगा कि एक उमर फैयाज और एक औरंगजेब को मारकर आतंकी हमारे बहादुर जवानों का हौसला नहीं डिगा सकते। यह कायराना हरकत कर आतंकी सिर्फ दहशत का संदेश देना चाहते हैं, पर उन्हें शायद यह मालूम नहीं कि जिस धरती मां के साये में इन जांबाजों को दफन किया गया है, उसी धरती मां की कोख से हजारों नौजवान देश पर मर मिटने को तैयार हैं। पिछले साल मई के महीने में आतंकियों ने लेफ्टिनेंट उमर फैयाज को किडनैप कर लिया था। बाद में उनकी हत्या कर दी थी। यह संदेश कश्मीरी युवाओं के लिए था, जो सेना में हैं या जाना चाहते हैं। आतंकियों का संदेश साफ था। जो युवा सेना से जुड़ेंगे उनका भी हश्र ऐसा ही होगा। पर हुआ इसका उलटा।

आपको जानकर सुखद आश्चर्य होगा कि इस साल इंडियन मिलिट्री एकेडमी से जम्मू कश्मीर के सर्वाधिक युवाओं ने भारतीय सेना में कमिशन प्राप्त किया है। पिछले साल की पीओपी में जहां जम्मू-कश्मीर टॉप टेन से बाहर था। वहीं इस साल जून के प्रथम सप्ताह में संपन्न हुए पासिंग आउट परेड में जम्मू कश्मीर के 17 युवा भारतीय सेना में आॅफिसर बने हैं। सर्वाधिक सैन्य अधिकारी देने वाले राज्यों में जम्मू कश्मीर आठवें स्थान पर रहा है। यह कोई साधारण बात नहीं है, क्योंकि जब पिछले साल लेफ्टिनेंट उमर की हत्या हुई थी तो कई तरह की आशंकाएं पैदा हो गई थी। आतंकियों ने लगभग 26 साल बाद इस तरह की कायराना हरकत की थी। मैंने पिछले साल उमर फैयाज की शहादत पर अपने इसी कॉलम में उनकी चर्चा करते हुए लिखा था कि ‘‘उमर की शहादत ने कश्मीर के युवाओं को बड़ा संदेश देकर उमर को अमर कर दिया है।’’ आज मुझे गर्व के साथ दुख भी हो रहा है। गर्व इस बात पर कि जम्मू कश्मीर से एक साथ इतने युवाओं ने भारतीय सेना में शामिल होकर भारत मां की रक्षा की कसम खाई है। दुख इस बात पर कि एक बार फिर आतंकियों ने अपनी पुरानी स्ट्रेटजी पर काम करते हुए राइफल मैन औरंगजेब की हत्या कर दी है। उमर की तरह औरंगजेब को भी किडनैप करके मारा गया।
उमर और औरंगजेब की शहादत ने हमारे हुक्मरानों को भी सोचने और मंथन करने का नया नजरिया दिया है। कश्मीर के युवाओं को एक नए नजरिए से समझने की जरूरत है। चंद पत्थरबाजों की बात छोड़ दें तो इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कश्मीर के युवा भटकाव की स्थिति में नहीं हैं। कुछ रुपयों की लालच में पाकिस्तान और आईएसआईएस का झंडा उठाए कश्मीर के युवा जब पत्थरबाजी करते हैं तो आश्चर्य होता है। आश्चर्य इस बात से कि कैसे युवाओं का एक वर्ग इतनी जल्दी बहक जा रहा है। कैसे उन्हें मोटिवेट कर लिया जा रहा है। क्यों वे भारत में रहकर भारत मां के खिलाफ हो रहे हैं। राजनीतिक चश्मा उतार कर मंथन करें तो पाएंगे कि आसानी से मिलने वाले रुपयों की खातिर वे पत्थर फेंकने से नहीं हिचक रहे हैं। पहले इन्हीं रुपयों की लालच में वे सेना पर हैंड ग्रेनेड तक फेंक दिया करते थे। कई रिपोर्ट्स में इस बात का खुलासा हो चुका है कि ये पत्थरबाज पेड इंप्लाई की तरह काम कर रहे हैं। सबसे बड़ी बात यह है कि इन पेड इंप्लाइज की हरकतों को कैमरे में कैद कर सोशल मीडिया पर वायरल किया जाता है, ताकि पूरा विश्व कश्मीर के ‘पैदा किए हुए’ हालातों से रूबरू हो सके। यह इतना प्लांड तरीके से किया जा रहा है कि सबकुछ सामान्य लगे। 

हाल ही में जब राजनाथ सिंह ने हजारों पत्थरबाजों के ऊपर से मुकदमा हटाने की बात कही थी तो तीव्र प्रतिक्रिया सामने आई थी। कहा जाने लगा कि वोट की राजनीति ने केंद्र सरकार को मजबूर कर रखा है। पर भारत सरकार ने कश्मीर के युवाओं के प्रति नए नजरिए से मंथन शुरू किया है। यह नया नजरिया उन्हें अपने करीब लाने का है। कश्मीरी युवाओं के हालात का अर्द्धसत्य ही हम देख पा रहे हैं। जबकि दूसरे पहलू से हम अनजान हैं। आईएमए का पासिंग आउट परेड इसी तस्वीर का दूसरा पहलू है। आईएमए ही नहीं बल्कि सेना, अर्द्धसैनिक बल, कश्मीर पुलिस की तमाम भर्तियों में भारी संख्या में उमड़ रही युवाओं की भीड़ ने भी मंथन करने पर मजबूर कर दिया है। युवाओं की इसी भीड़ ने आतंकी आकाओं के होश उड़ा रखे हैं। उन्हें पता है कि बेरोजगारी ही एक ऐसा रास्ता है जहां से युवाओं को पत्थरबाज या आतंकी बनाया जा सकता है। जब बेरोजगारी का दांव फेल होता दिखा है तो उमर और औरंगजेब जैसे कश्मीरी युवाओं के जरिए संदेश दिया जा रहा है। यही वो समय है जब केंद्र सरकार अपनी सारी ताकत झोंक कर आतंकियों को मजबूत संदेश दे। 
  मंथन इस बात पर भी होना चाहिए कि कश्मीर की लड़ाई अब बंदूक और गोलियों से अधिक मनोवैज्ञानिक बन चुकी है। इस मनोवैज्ञानिक युद्ध में अगर केंद्र सरकार कमजोर पड़ गई तो आने वाले समय में मूंह पर कपड़ा बांधे पत्थरबाज और अधिक संख्या में बाहर निकलेंगे। यह सुखद संदेश है कि वर्षों से कराह रहे कश्मीर को लेकर केंद्र सरकार ने नए नजरिए से मंथन करना शुरू किया है। उम्मीद की जानी चाहिए कि आने वाले समय में और अधिक सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे। केंद्र सरकार इस बात पर भी जरूर मंथन करे कि क्यों नहीं कश्मीरी युवाओं के सकारात्मक पहलुओं से पूरी दुनिया को रूबरू करवाया जाए। क्यों इस मनोवैज्ञानिक युद्ध में पत्थरबाज बाजी मार रहे हैं। खुद की बनाई वीडियो कैसे तत्काल वे वायरल कर देते हैं, जबकि कश्मीरी युवाओं के दूसरे सकारात्मक पहलूओं को क्यों नहीं वायरल होने दिया जा रहा है। क्यों नहीं पूरी दुनिया को बताया जा रहा है कि कायरों ने एक औरंगजेब को मारा है, जबकि औरंगजेब जैसे हजारों सूरवीर भारत मां की रक्षा को मर मिटने को तैयार बैठे हैं।
चलते-चलते
शहीद लेफ्टिनेंट उमर फैयाज और राइफलमैन औरंगजेब की शहादत कश्मीर के युवाओं को लंबे समय तक याद दिलाती रहेगी कि चंद कायरों की हरकत उनके कदम नहीं रोक सकती है। दीवारें हम बनेंगे मां, तलवारें हम बनेंगे मां, छू ले तुझको है किसमें दम..गीत गाने वाले हजारों सूरवीरों को मेरा नमन।

Monday, June 4, 2018

लोग आते हैं, लोग जाते हैं हम यहीं पर खड़े रह जाते हैं...

आज मंथन से पहले मैं आप लोगों को एक छोटी सी सच्ची कहानी बता रहा हूं। 28 मई की रात करीब डेढ़ बजे मैं अंबाला कैंट रेलवे स्टेशन पर था। दीदी आर्इं थी। वापसी की ट्रेन गोल्डन टेंपल रात दो बजे के करीब थी। गाड़ी से सामान उतारकर कुली को खोजने लगा। पास में ही दो कुली मिले। एक सो रहा था, दूसरा लेटा हुआ आसमान को निहार रहा था। मैंने उसे चलने को कहा। सामान के पास आया निरीक्षण किया। बोला तीनों बैग के डेढ़ सौ रुपए लूंगा। मैंने हामी भरी। इतने में वह सोए हुए कुली के पास चला गया और उसे उठाने लगा। मैंने सोचा तीनों बैग उठाने के लिए वह एक और कुली लेकर आ गया। अब वह तीन सौ चार्ज करेगा। मैंने तत्काल उसे बोला, भाई मुझे एक ही कुली चाहिए। उसने तत्काल मेरी मनोदशा भांप ली और बोला सर आपसे डेढ़ सौ ही लूंगा। खैर दोनों ने मिलकर सामान उठा लिया। मेरे हाथ में छोटा सा हैंड बैग था, उसने वह भी मुझसे ले लिया। कहा आप बच्चों का हाथ पकड़ लीजिए। प्लेटफॉर्म नंबर दो पर ट्रेन थी। हम वहां पहुंचकर वेट करने लगे। दोनों कुली भी आस पास ही टहलने लगे। रात दो बजकर दस मिनट पर ट्रेन आई। दोनों ने बड़े ही शालीन तरीके से सामान बोगी के अंदर पहुंचाया। सामान को सीट के नीचे तसल्लीबख्श रखा और ट्रेन से उतर आए। नीचे आने पर एक कुली को डेढ़ सौ रुपया थमाया। दोनों चले गए। ट्रेन भी करीब पांच मिनट रूक कर चली गई।
ट्रेन तो रुख्सत हो गई, पर जो सवाल मेरे मन में थे वो कहीं से भी रुख्सत होने का नाम नहीं ले रहे थे। सवाल एक ही था, आखिर ऐसा क्या था कि उस कुली ने इतने कम सामान के लिए एक और कुली किया। फिर अपने डेढ़ सौ रुपए में से मजदूरी भी शेयर की होगी। इसी उधेड़बुन में प्लेटफॉर्म से बाहर आ गया। मेरी नजरें चारों तरफ उसी दोनों कुली को खोज रही थी। गाड़ी स्टार्ट करने के बाद भी मैंने बढ़ाई नहीं। गाड़ी बंद कर फिर से उन दोनों को खोजने निकल गया। जहां उन दोनों को मैंने पहली बार देखा था, वहीं पहले वाला कुली मिल गया। मेरे सामने आते ही वह चौंक गया। बोला क्या हुआ बाबूजी आप गए नहीं। मैंने उससे पूछा क्या मैं तुमसे बात कर सकता हूं। उसने कहा, पूछिए क्या पूछना है। सबसे पहले उसका नाम पूछा। उसने अपना नाम टोनी बताया। मैंने कहा टोनी यह बताओ मेरे पास सामान भी अधिक नहीं था, फिर भी तुमने अपने साथी को क्यों बुलाया। अपनी आधी मजदूरी भी उसे दे दी। टोनी की आंखें डबडबा गई। बोला सर दरअसल हमारा टर्म रात का है। आधी रात गुजर गई थी, हम दोनों की बोहनी (मजदूरी की शुरुआत) तक नहीं हुई थी। आप पहले पैसेंजर थे, जिन्हें कुली की जरूरत महसूस हुई थी। मेरा साथी तो हताश होकर सो गया था। मैंने उसे इसलिए साथ कर लिया चलो 75-75 रुपए तो दोनों को मिलेंगे। कहीं पूरी रात कोई पैसेंजर नहीं मिलता तो मेरे दोस्त को भी खाली हाथ ही घर जाना पड़ता। सुबह बच्चे भी इंतजार करते हैं हमारे घर आने का। अब आंखे डबडबाने की बारी मेरी थी। मैं सोचने पर मजबूर हो गया कि क्या आज कुलियों की स्थिति ऐसी हो गई है। बार-बार यह खबरें सुनने में आती हैं कि अपनी मांगों को लेकर कुली हड़ताल कर रहे हैं। पर आज उनकी हड़ताल का असली मतलब और दर्द समझ में आया।
भारत में कुलियों का अस्तित्व तब से है जब भारत में रेल का पदार्पण हुआ। 164 वर्ष पुरानी रेल की व्यवस्था में बहुत कुछ बदला। कुलियों की वर्दी बदली। व्यवस्थाएं बदली। लाइसेंस सिस्टम शुरू हुआ। पर नहीं बदले तो सिर्फ कुलियों के हालात। जो मुफलिसी के हालात वर्षों पहले कायम थे आज भी उसी हालात में हैं भारतीय कुली। टोनी और उसके साथियों से हुई चर्चा के बाद कई ऐसे पहलू सामने आए जो आपको भी मंथन करने को मजबूर कर देंगे। स्टेशन पर सुविधाएं बढ़ती गर्इं। यात्रियों के आवागमन के लिए स्वचालित सीढ़ियां आ गर्इं। ट्रॉली वाले बैग ने भी यात्रियों को सुविधाएं दीं। बैट्री वाली गाड़ियों ने पैसेंजर्स को आराम दिया। ऐसे में सबसे अधिक प्रभावित कुली हुए। वर्षों से उनके मजदूरी के रेट रिवाइज नहीं हुए। लाइसेंस भी अधिक संख्या में दिए जाने लगे। ऐसे में कुलियों की संख्या तो बढ़ गई, लेकिन उनकी कमाई बेहद कम होती गई। कमाई घटने के कारण ही कई स्टेशनों पर कुली कई दूसरे तरह के कामों में भी व्यस्त हो गए हैं। सीटों की अवैध बिक्री, जनरल डिब्बों में चढ़ाने के लिए पैसे लेना जैसे कुछ ऐसे काम भी कुली करने लगे हैं जो अपराध की श्रेणी में आते हैं। पर पेट की मजबूरी उन्हें इस तरह के अपराध करने को विवश करने लगी है।
हर रेलवे बजट से कुलियों को अपने उत्थान के लिए बहुत उम्मीदें रहती हैं। पर उन्हें हर बार निराशा ही हाथ लगती है। ऐसे में कुलियों ने पिछले साल से अपनी मांगों के लिए देशव्यापी आंदोलन शुरू कर रखा है। उनकी एक प्रमुख मांग कुलियों को रेलवे में गु्रप डी में शामिल करना है। साथ ही मेडिकल की सुविधा और बच्चों की पढ़ाई भी प्रमुख मांगों में से है। केंद्र सरकार जहां एक तरफ सबसे उपेक्षित वर्गों के कल्याण के लिए तमाम योजनाओं का संचालन करती है, वहीं अगर कुलियों की तरफ नजर उठाएं तो उनके लिए ऐसी कोई व्यवस्था नहीं जिसमें वे अपना जीवन सुरक्षित कर सकें। बड़े स्टेशनों पर तो कुलियों की स्थिति थोड़ी बहुत ठीक भी है, लेकिन छोटे स्टेशनों पर इनकी स्थिति बेहद चिंताजनक है। पूरे देश के कुली एक बार फिर से दिल्ली में जुटने की तैयारी में हैं। संभवत: जुलाई में इनकी राष्टÑव्यापी हड़ताल हो, ताकि वो अपनी मांगों के प्रति केंद्र सरकार का ध्यान आकर्षित करवा सकें।
कुलियों के स्टेशन पर न होने की स्थिति में होने वाली परेशानियों से रेलवे पूरी तरह वाकिफ है। बावजूद इसके उनके विकास और उत्थान के लिए कोई कारगर कदम उठाने के प्रति संवेदनहीन बनी हुई है। मंथन करने का समय है कि क्या वह हमारे समाज का हिस्सा नहीं हैं। जब सामान्य मजदूरों की भी न्यूनतम मजदूरी और सौ दिन काम जैसे महत्वपूर्ण कदम उठाए जा सकते हैं। मनरेगा जैसी स्कीम लागू की जा सकती है, तो क्यों नहीं कुलियों के लिए भी कोई सार्थक कदम उठाया जाए।
चलते-चलते
फिल्मी दुनिया के दो महानायक हैं जिन्होंने रीयल और रील लाइफ में कुली का किरदार निभाया है। अपनी मुफलिसी के दिनों में रजनीकांत ने कुली तक का काम किया, जबकि सुपरस्टार अमिताभ बच्चन ने फिल्म कुली में अपना ऐतिहासिक किरदार निभाया। इसी फिल्म में शायद पहली बार कुलियों की जिंदगी पर कोई गाना लिखा गया, जिसके बोल थे.. सारी दुनिया का बोझ हम उठाते हैं, लोग आते हैं लोग जाते हैं हम यहीं पर खड़े रह जाते हैं।  यह बोल आज भी प्रासंगिक हैं। लोग आए गए, सरकारें आई गई पर कुली आज वहीं खड़े हैं जहां 164 साल पहले खड़े थे। उसी मुफलिसी और बेकदरी के आलम में।